नागरिक अधिकार पत्र
  गन्ना खाण्डसारी चीनी नीति
  कार्मिक प्रशासन एवं आनलाइन शिकायतें
  जनसूचना अधिकार अधिनियम
  उत्तर प्रदेश शासन - गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग
  गन्ना सुरक्षण
  गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग
से सम्बन्धित अधिनियम
  गन्ना आयुक्त के महत्वपूर्ण आदेश
  गन्ना प्रतियोगिता
  डाउनलोड्स
  सांख्यिकी -
विभाग सूचना प्रबंधन
विभागीय सूचनाएं
  संस्थायें -
1.
सहकारी गन्ना विकास समितियॉं
2.
गन्ना विकास परिषदें
3.
उ०प्र० सहकारी गन्ना समिति संघ लि०
4.
गन्ना किसान संस्थान
5.
प्रचार संगठन
6.
आडिट संगठन
7.
निर्माण संगठन
8.
प्राधिकरण
र्वैज्ञानिक गन्ना खेती की विधियॉं
बुवाई का समय
गन्ने के सर्वोत्तम जमाव के लिये 30-35 डिग्री से0 वातावरण तापक्रम उपयुक्त है। उपोष्ण कटिबन्धीय क्षेत्रों में तापक्रम वर्ष में दो बार ​सितम्बर-अक्टूबर एवं फरवरी, मार्च आता है।
 
मौसम
बुवाई का समय
1-
शरद 15 सितम्बर से अक्टूबर
2-
बसन्त
1) पूर्वी क्षेत्र
2) मध्य क्षेत्र
3) पश्चिमी क्षेत्र

15 जनवरी से फरवरी
15 फरवरी से मार्च
15 फरवरी से मार्च
3-
विलम्बित समय अप्रैल से 16 मई
 
पंक्तियों के मध्य की दूरी एवं बीज
सामान्यत: पंक्ति से पंक्ति के मध्य 90 से0मी0 दूरी रखने एवं तीन आंख वाले टुकड़े बोने पर लगभग 37.5 हजार टुकड़े अथवा गन्ने की मोटाई के अनुसार 40 से 60 कुन्तल बीज गन्ना प्रति हेक्टयर की दर से प्रयोग किया जाता है। पंक्तियों के मध्य की दूरी 60 से0मी0 रखने तथा तीन आंख वाले टुकड़े लेने पर इनकी संख्या लगभग 56.25 हजार प्रति हेक्टयर हो जाती है।
 
1.पंक्तियों के मध्य की दूरी 90 सेंटीमीटर :
यह सामान्य परि​स्थितियों एवं गन्ने के साथ अन्त: फसल लेने की दशा में सर्वाधिक उपयुक्त दूरी है।
 
2.पंक्तियों के मध्य की दूरी 60 से0मी0 :
विलम्ब से गन्ना बोवाई की दशा में, अ​िसंचित एवं कम ​िसंचाई की उपलब्धता में, कम नत्रजन दिये जाने की दशा में तथा अधिक ठण्ड वाले क्षेत्रों के लिये उपयुक्त हैं।
 
बीज गन्ना
सामान्यत: स्वीकृत पौधशालाओं से संस्तुत उन्नतशील गन्ना प्रजातियों का रोग व कीटमुक्त, शत-प्रतिशत शुद्ध 12 माह की आयु की फसल से बीज का चुनाव किया जाता है किन्तु वैज्ञानिक प्रयोगों से यह सिद्ध हुआ है कि गन्ने के 1/3 ऊपरी भाग का जमाव अपेक्षाकृत अच्छा होता है तथा 2 माह की फसल की तुलना की में 7-8 माह की फसल से लिये गये बीज का जमाव भी अपेक्षाकृत अच्छा होता है। बोने से पूर्व गन्ने के दो अथवा तीन ऑंख वाले टुक्ड़े काटकर कम से कम 2 घण्टे पानी में डुबो लेना चाहिये, तदुपरान्त किसी पारायुक्त रसायन (एरीटान 6 प्रतिशत या बैगलाल 3 प्रतिशत) के क्रमश: 0.25 या 0.5 घोल में शोधित कर लेना चाहिये। बीज शोधन के लिये बावस्टीन 0.1 प्रतिशत घोल का भी प्रयोग किया जा सकता है।
मार्ग सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस द्वारा संचालित. सर्वश्रेष्ठ 1024 x 768 पर | इंटरनेट एक्सप्लोरर 7.0-बाद के संस्करण