गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग विभाग

उत्तर प्रदेश सरकार

योजनाएं

गन्ना विकास विभाग (अनुदान संख्या–23) के अन्तर्गत कार्यरत अधिष्ठान एवं क्षेत्रीय कार्यालयों में संचालित आयोजनेत्तर योजनाओं का संक्षिप्त विवरण

योजना ⁄ लेखाशीर्ष–2401 योजना का विवरण

001–निदेशन तथा प्रशासन

03–गन्ना आयुक्त का अधिष्ठान
इस योजना के अर्न्तगत गन्ना आयुक्त अधिष्ठान में कार्यरत अधिकारियों  ⁄ कर्मचारियों के वेतन भत्ते, कार्यालय किराया तथा कार्यालय के रखरखाव आदि से सम्बन्धित व्ययों का भुगतान किया जाता है। अधिकारियों ⁄ कर्मचारियों द्वारा आयोजनागत योजनाओं से सम्बन्धित गन्ना विकास की योजना ⁄ अर्न्तग्रामीण सडक निर्माण योजना से सम्बन्धित नियंत्रण कार्य एवं क्षेत्रीय ⁄ जनपदीय स्तर पर कार्यरत अधिकारियों ⁄ कर्मचारियों के सेवा सम्बन्धी समस्त कार्यों का निस्तारण किया जाता है तथा क्षेत्र स्तर से प्राप्त सूचनाओं को संकलित कर शासन को समय–समय पर प्रेषित किया जाता है।
04–क्षेत्रीय कार्यालय विभाग में प्रदेश में मात्र छः क्षेत्र थे, जिनमें उप गन्ना आयुक्त् कार्यरत थे। गन्ने की विकास एवं गन्ना  जनपदों ⁄ चीनी मिलों के बढ़ने से क्षेत्रीय स्तर पर अन्य कार्यालयों की आवश्यकता पढी, तत्पश्चात शासन द्वारा तीन अन्य क्षेत्रों (मेरठ, मुरादाबाद एवं फैजाबाद) उप गन्ना आयुक्त् के पद सृजित किये गये। इन क्षेत्रों में उप गन्ना आयुक्तों द्वारा अपने क्षेत्र से सम्बन्धित जनपदों में गन्ने के विकास से सम्बन्धित जनपदों में गन्ने के विकास से सम्बन्धित योजनाओं का क्रियान्वयन एवं नियंत्रण रखा जाता है। साथ ही क्षेत्र एवं जनपद स्तर के अधिकारियों ⁄ कर्मचारियों पर प्रभावी नियंत्रण भी रखा जाता है। इस योजना के अन्तर्गत् उक्त् क्षेत्रों में कार्यरत उप गन्ना आयुक्तों तथा उनके कर्यालयों से सम्बन्धित कर्मचारियों के वेतन भत्ते एवं कार्यालय के रख–रखाव से सम्बन्धित व्ययों का भुगतान किया जाता है।

108–वाणिज्यिक फसलें

03–गन्ना आयुक्त (पर्यवेक्षक कर्मचारी वर्ग)
इस योजना के अन्तर्गत जनपदों में फील्ड स्तर पर कार्यरत गन्ना पर्यवेक्षकों के वेतन भत्तों आदि का भुगतान किया जाता है। गन्ना पर्यवेक्षकों द्वारा गन्ने से सम्बन्धित सर्वे ⁄ सट्टा का सम्पूर्ण कार्य किया जाता है। इसके अतिरिक्त् ग्राम सभा की कार्यवाही का रजिस्टर का रखरखाव क्षेत्र में पौधशालाओं एवं प्रदर्शनों का विभागीय निर्देशानुसार रखरखाव कराना, ग्राम का सजरा–खसरा सर्वे रजिस्टर, गश्ती सर्वे रजिस्टर, गन्ना क्षेत्र स्थानान्तरण फार्म, डायरी रजिस्टर, आदेश पुस्तिका, नर्सरी प्रदर्शन, रजिस्टर, प्रोनोट फार्म, ग्राम सूचना रजिस्टर, एम०पी०आर० रजिस्टर, कैश रजिस्टर, सिंचाई सम्बन्धी योजना पर दिये गये ऋण पर कार्यवाही , गन्ना पूर्ति पर नियंत्रण रखने के लिये कैलेण्डर बनाना, पासबुक बनाना तथा सीजन सू पूर्व कृषकों को वितरित करना, गन्ना उत्पादन के लिये आवश्यक इनपुट्स–जैसे उर्वरक कीटनाशक दवा, कृषियंत्रों के लिये इच्छुक कृषकों से ऋण उपलब्ध कराना, रोग एवं कीट से प्रभावित गन्ना क्षेत्र का सर्वे करना तथा उसके नियंत्रण समिति के खाद गोदामों एवं उप गोदामों की देखरेख करना।

108–वाणिज्यिक फसलें

04–गन्ने की खेती के विकास तथा उसके प्रगाढीकरण की योजना
क्षेत्र ⁄ जनपद स्तर पर कार्यरत उप गन्ना आयुक्तों एवं जिला गन्ना अधिकारयों, ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक, गन्ना विकास निरीक्षक, कार्यालयों में कार्यरत लिपिक, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के वेतन भत्तों तथा कार्यालय के रख–रखाव आदि से सम्बन्धित व्ययों का भुगतान किया जाता है। यह योजना प्रदेश के समस्त गन्ना जनपदों में संचालित होती है। क्षेत्र ⁄ जनपद स्तर पर संचालित की जा रही योजनओं पर प्रभावी प्रशासनिक नियंत्रण रखा जाता है।

111–कृषि अर्थव्यवस्था तथा सांख्यिकी

03–गन्ना उत्पादन कार्यक्रम के कार्यो तथा उसके आघातों का अध्ययन
क्षेत्र स्तर पर गन्ने की सांख्यिकी गणना एवं ऑकडों की प्राप्ति हेतु क्षेत्रीय अन्वेषकों की नियुक्ति इस योजना के अन्तर्गत की गयी थी। क्षेत्रीय अन्वेषकों का वेतन भत्तों आदि का भुगतान इस योजना के अन्तर्गत किया जाता है।