गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग विभाग

उत्तर प्रदेश सरकार

नागरिक अधिकार

4. गन्ना विकास विभाग की योजनाएं :


1. जिला योजना :
क्रम संख्या संचालित योजनाओं के नाम विभाग द्वारा प्रदत्त अनुदान
  सघन गन्ना विकास  
  (क) उन्नतिशील गन्ना बीज पौधशाला  
  i आधार पौधशाला रू0 1000 प्रति हेक्टे0 सामान्य तथा रू0 2000 प्रति हेक्टे0 अनु0जाति/जनजाति को अनुदान दिया जाता है।
  ii प्राथमिक पौधशाला रू0 500 प्रति हेक्टे0 सामान्य तथा रू0 1000 प्रति हेक्टे0 अनु0जाति/जनजाति को अनुदान दिया जाता है।
  (ख) बीज उपचार/भूमि उपचार संबंधित दवाओं के मूल्य का 25 प्रतिशत अनुदान 2500 टी0सी0डी0 क्षमता वाली मिल क्षेत्र को तथा 2500 टी0सी0डी0 से ऊपर की मिल को 12.5 प्रतिशत अनुदान दिया जाता है।
  (ग) पेड़ी प्रबन्धन कार्यक्रम संबंधित दवाओं के मूल्य का 25 प्रतिशत अनुदान 2500 टी0सी0डी0 क्षमता वाली मिल क्षेत्र को तथा 2500 टी0सी0डी0 से ऊपर की मिल को 12.5 प्रतिशत अनुदान दिया जाता है।
  अन्तरग्रामीण सड़क निर्माण योजना निर्मित होने वाली सड़क का 60 प्रतिशत राज्यांश एवं शेष 40 प्रतिशत धनराशि अशंदायी संस्थाओं जैसे-गन्ना विकास परिषद, सहकारी गन्ना विकास समिति एवं चीनी मिल द्वारा अंशदान वहन किया जाता है।
2- राष्ट्रीय कृषि विकास योजना :
  i आधार पौधशाला केन्द्रक बीज से स्थापित पौधशाला पर उत्पादित बीज वितरण पर रू0 50.00 प्रति कुन्टल अनुदान दिया जाता है।
  ii प्राथमिक पौधशाला आधार पौधशाला से स्थापित पौधशाला के बीज वितरण पर रू0 25.00 प्रति कुन्टल अनुदान दिया जाता है।
  iii बीज यातायात शोध केन्द्रों से बीज लाकर आधार पौधशाला में स्थापना हेतु रू0 15.00 प्रति कुन्टल तथा आधार पौधशाला से प्राथमिक पौधशाला के स्थापना हेतु बीज वितरण पर रू0 7.00 प्रति कुन्टल अनुदान दिया जाता है।
  iv प्रदर्शन प्रदर्शन 0.500 हेक्टे0 के स्थापित किये जाते है जिस पर रू0 15000 प्रति प्रदर्शन अनुदान दिया जाता है।
  v कृषि संयंत्र वितरण
  • मानव चालित यंत्र- यंत्र के क्रय मूल्य का 50 प्रतिशत या अधिकतम रू0 500 अनुदान स्वरूप दिया जाता है।
  • पशु चालित यंत्र- यंत्र के क्रय मूल्य का 50 प्रतिशत या अधिकतम रू0 2500 अनुदान स्वरूप दिया जाता है।
  • टैªक्टर चालित यंत्र- यंत्र के क्रय मूल्य का 50 प्रतिशत या अधिकतम रू0 30,000 का अनुदान कृषकों को दिया जाता है।
  vi सूक्ष्म तत्व वितरण सूक्ष्म तत्वों के मूल्य का 50 प्रतिशत अधिकतम रू0 1000 प्रति हेक्टेयर
  vii मृदापरीक्षण प्रयोगशाला चीनी मिलों में स्थापित की जाती है, जिस पर रू0 20.00 लाख प्रति प्रयोगशाला अनुदान दिया जाता है।
  viii प्रशिक्षण
  • राज्य स्तरीय - विभागीय तथा चीनी मिल स्टाफ को 3 दिन तक प्रशिक्षण दिया जाता है, जिसके व्यय हेतु रू0 20000 प्रति प्रशिक्षण गन्ना किसान संस्थान को अनुदान प्राप्त होता है।
  • स्थानीय -
    चीनी मिल/गन्ना विकास परिषद स्तर पर 100 कृषकों को 1 दिन का प्रशिक्षण के व्यय हेतु रू0 12500 का अनुदान दिया जाता है।
  ix जिला स्तरीय किसान मेला प्रत्येक जनपद वर्ष में 2 बार आयोजन की व्यवस्था है प्रति मेला रू0 1.00 लाख अनुदान ।
  x आकाशवाणी/दूरदर्शन स्पाट कार्यक्रम के अंतर्गत गन्ने की खेती के विकास के लिये आवश्यक कार्यक्रम हेतु धन की व्यवस्था
  xi उत्पादक पुरस्कार कृषकों केा गन्ने की खेती के प्रतिस्पर्धा स्थापित करने हेतु जिला/मण्डल/राज्य स्तर पर प्रथम/द्वितीय/तृतीय स्तर के पुरस्कारों की व्यवस्था।